अंबिकापुरकांग्रेसकेंद्रकोरबाचांपाचिकित्सा तंत्रछत्तीसगढ़जगदलपुरजांजगीरदुर्गधमतरीनौकरीपेंड्रा रोडप्रधानमंत्रीबिलासपुरभाजपाभाटापाराभिलाईमुख्यमंत्रीराजनांदगांवराजनीतिराज्यरायगढ़रायपुर ग्रामीणरायपुर शहररिहान इब्राहिम मुंबई/अंतरराष्ट्रीयशिक्षा तंत्रसरकारी तंत्रसेलिब्रिटी सोशल वर्क
Trending

शिक्षक दिवस पे रायपुर में रहा माहौल गरम, दिन भर की गहमागहमी में मीडिया की दौड़भाग, एक रविवार कार्यक्रम अपार।

newsmrl.com On Teacher's Day, the atmosphere in Raipur was hot, the media rush in the hustle and bustle of the day, a Sunday program immense. update by Rihan Ibrahim

  • 1- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आत्मानंद आर डी तिवारी स्कूल का लोकार्पण।
  • 2- छत्तीसगढ़ भाजपा प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी के अपमानजनक बयान के विरोध में NSUI का प्रदर्शन।
  • 3- शिक्षक दिवस पर सहायक शिक्षकों ने निकाली पैदल मार्च। मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने की कोशिश।
  • 4- अस्थाई रूप से कोरोना काल के दौरान पदस्थ किए गए संविदा कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के नाम खून से पत्र लिखा।

रायपुर शहर इस रविवार हलचल भरा रहा, अलग अलग कई कार्यक्रमों और धरना प्रदर्शन के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आर.डी. तिवारी स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल के बच्चों के आत्म विश्वास, स्कूल में विकसित की गयी अध्ययन-अध्यापन की सुविधाओं और कोरोना काल में बच्चों को शिक्षा दान के लिए स्कूल के शिक्षकों द्वारा किए गए नवाचारी प्रयासों की मुक्तकंठ से सराहना की है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिक्षक दिवस के अवसर पर आज राजधानी रायपुर के आमापारा स्थित स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट विद्यालय योजना अंतर्गत संचालित आर.डी. तिवारी शासकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल के उन्नयन कार्य का लोकार्पण किया।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की पहचान शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के क्षेत्र में होनी चाहिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस अवसर पर स्वामी आत्मानंद के नाम से संचालित शासकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल की तर्ज पर अब प्रत्येक जिले में एक-एक हिन्दी माध्यम स्कूल खोलने की बड़ी घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महापुरूषों के नाम से संचालित होने वाले स्कूल हमारी पहचान है। इन ऐतिहासिक स्कूलों का उन्नयन बहुउद्देशीय शाला के रूप में किया जाएगा। उन्होंने आरडी तिवारी अंग्रेजी माध्यम स्कूल के खेल मैदान के लिए 2 करोड़ रुपए की मंजूरी प्रदान की।
इस दौरान,कोरोना काल में बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिए नवाचार करने वाले 20 उत्कृष्ट शिक्षकों को सम्मानित किया गया। महतारी दुलार योजना के अंतर्गत कोरोना काल में अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को छात्रवृत्ति के चेक भी प्रदान किए।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिक्षक दिवस के अवसर पर सभी शिक्षकों को बधाई दी। उन्होंने प्रथम उपराष्ट्रपति व पूर्व राष्ट्रपति एवं भारत रत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन् को नमन करते हुए कहा कि पिछले वर्ष कोरोना के कारण शिक्षक दिवस का कार्यक्रम वर्चुअल रूप से आयोजित हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि आरडी तिवारी स्कूल में पहले मात्र 57 बच्चे पढ़ते थे। स्वामी आत्मानंद के नाम से अंग्रेजी माध्यम का शासकीय स्कूल प्रारंभ होने से अब यहां एक हजार से अधिक बच्चे पढ़ रहे हैं।
उन्होंने कहा कि स्वामी आत्मानंद के नाम से रायपुर शहर में तीन शासकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल प्रारंभ किए गए, यहां ऐसे बच्चों को प्रवेश मिला है, जो आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के हैं। यहां पढ़ने वाले बच्चों की फीस, पुस्तक और गणवेश का खर्चा सरकार वहन करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां आयोजित शिक्षा मड़ई में कोरोना काल में नवाचार करने वाले शिक्षकों में मोटर सायकिल गुरूजी, सिनेमा वाले बाबू, श्यामपट वाले गुरूजी, लाउड स्पीकर क्लास, अंगना म शिक्षा, मुस्कान पुस्तकालय, जुगाड़ स्टूडियो, स्मार्ट क्लास, माटी कला से शिक्षा, पपेट शो, स्थानीय भाषा में शिक्षा और सहायक सामग्री के प्रयोगों को देखने को मिला। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना काल में शिक्षकों द्वारा किए गए नवाचारों की प्रशंसा करते हुए कहा कि आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है। आपदा के अवसर में बदलने का कार्य छत्तीसगढ़ के शिक्षकों द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी माध्यम स्कूल की शुरूआत रायपुर से की गई इसके बाद जिलों में 27, उसके बाद 52 और अब 172 स्कूल संचालित हो रहे हैं। अंग्रेजी माध्यम स्कूलों का यह कारवां और भी आगे बढ़ेगा।
इस कार्यक्रम को महापौर एजाज ढेबर व संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने भी संबोधित किया।

मुख्यमंत्री बघेल ने आज शिक्षक दिवस के अवसर पर राजधानी रायपुर के आर.डी. तिवारी स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल आमापारा का नए स्वरूप में लोकार्पण करने के बाद वहां आयोजित ’शिक्षा मड़ई’ प्रदर्शनी में नवाचारी शिक्षकों के प्रदर्शित कार्यों का अवलोकन किया। उन्होंने विद्यार्थियों और शिक्षकों से पढ़ाई-लिखाई और स्कूल में विकसित की गयी उत्कृष्ट सुविधाओं के बारे में जानकारी ली और स्कूल के अवलोकन के बाद स्कूल की ऑटोग्राफ बुक में लिखा कि पहले भी आर.डी. तिवारी स्कूल में आना हुआ है। किन्तु अब यह स्कूल बिल्कुल परिवर्तित हो चुका है।
इस अवसर पर स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, महापौर रायपुर एजाज ढेबर, छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मण्डल के अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा, शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला सहित अनेक जनप्रतिनिधि, स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला भी उपस्थित थे।

छत्तीसगढ़ भाजपा प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी के अपमानजनक बयान के विरोध में NSUI का प्रदर्शन

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी के थूकने वाले बयान को लेकर NSUI ने प्रदेश के भाजपा विधायक, सांसद और महापौर के घर पर जाकर उनको थूकदान भेंट कर रही है. इस दौरान उनसे यह कहा गया कि भाजपा नेता कृपया कर यहां थूकें, छत्तीसगढ़िया स्वाभिमान पर नहीं.

इसी कड़ी में NSUI छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा के निर्देश अनुसार जिला सचिव आदि पांडेय के नेतृत्व में आज नेता प्रतिपक्ष एवं भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष धरम लाल कौशिक निवास के सामने जाकर NSUI के कार्यकर्ताओं ने थूक दान भेंट किया और नारेबाज़ी की.

इस प्रदर्शन में जिला कार्य. अध्यक्ष विनोद कश्यप, जिला महासचिव संकल्प मिश्रा के साथ विधानसभा अध्यक्ष केशव सिन्हा, ज़िला सचिव पुष्पेंद्र ध्रुव, हर्शराज शर्मा, हिमांशु शर्मा, ऋषभ डगरे, दीपेश यादव, निशांत शर्मा, संस्कार द्विवेदी, कुलदीप बाघमार, शिवम जयसवाल, परमवीर सिन्हा, अरुण आदुत्या दुबे, श्रेयांश ठाकुर, स्वप्निल सोनी, संगीत, अमन सरकार, हिमाशु चंद्रा, गौरव, मुकेश, व अन्य छात्र नेता उपस्थित थे

शिक्षक दिवस पर सहायक शिक्षकों ने निकाली पैदल मार्च। मुख्यमंत्री निवास का घेराव करने की कोशिश


रायपुर :- छग सहायक शिक्षक फेडरेशन के बैनर तले आज 5 सितम्बर शिक्षक दिवस के दिन प्रदेश के लाखों सहायक शिक्षको कि एक सूत्रीय मांग वेतन विसंगति को दूर करने के लिए रायपुर शहर में पैदल मार्च सहित मुख्यमंत्री निवास के घेराव का कार्यक्रम रखा गया जिसका प्रतिनिधित्व करते फेडरेशन के पुराने प्रांत संयोजक व संस्थापक सदस्य शिव सारथी, जाकेश साहू और इदरीश खान के नेतृत्व में विशाल रैली रायपुर के बूढ़ा तालाब से मुख्यमंत्री निवास घेराव के लिए निकला जिसमें 10 हजार कि विशाल जनसंख्या में प्रदेश के सहायक शिक्षक और शिक्षिकाए शामिल हुए जिन्हे पुलिस प्रशासन ने स्प्रे शाला स्कूल मैदान में रोड पर ही बैरीकेट लगाकर रोक दिया जिससे आक्रोशित शिक्षकों ने तीन घंटे तक रोड जाम करके रोड पर ही बैठकर अपना प्रदर्शन किसी तथा माननीय मुख्यमंत्री जी के नाम वेतन विसंगति का ज्ञापन सौंपा।
ज्ञापन सौंपने के बाद भी सहायक शिक्षक वापस घर जाने को तैयार नहीं थे इस पर पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी श्री लखन पाटले CSP के समझाइश पर अपना धरना समाप्त करके अपने अपने घर वापस गए पर जाते जाते भूपेश सरकार को चेता गए कि आने वाले समय में सरकार सहायक शिक्षकों कि मांग वेतन विसंगति अनिवार्य रूप से दूर की अन्यथा एक बड़ा आंदोलन शासन प्रशासन को झेलना पड़ेगा।
आज के इस पैदल मार्च और मुख्यमंत्री निवास घेराव कार्यक्रम को प्रमुख रूप से फेदेशन के संस्थापक सदस्य शिव सारथी, जाकेश साहू,इदरीश खान,दीपक कुमार कश्यप,मनीष डडसेना,रामकृष्ण साहू और बस्तर से लेकर सरगुजा और पूरे प्रदेश भर के सहायक शिक्षको ने लिड किया।

अस्थाई रूप से कोरोना काल के दौरान पदस्थ किए गए संविदा कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के नाम खून से पत्र लिखा।

अस्थाई रूप से कोरोना काल के दौरान पदस्थ किए गए संविदा कर्मचारि अपनी मांगों को लेकर लगातार राजधानी रायपुर से बूढ़ा तालाब में प्रदर्शन जारी है, बता दें कि आज उन्होंने मुख्यमंत्री के नाम खून से पत्र लिखा है, इस पत्र में उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से अस्थाई कर्मचारियों को न्याय देने की बात कही है साथ ही साथ स्थाई कर्मचारियों ने का है कि हमें कार्य पर निरंतर रखा जाए एवं कोविड-19 में कार्यरत कर्मचारियों को वैकल्पिक व्यवस्था करते हुए चिकित्सालयों में रोजगार देने की व्यवस्था की जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: