newsmrlअंतर्राष्ट्रीयअफ़्रीकाअमेरिकाआर्मीएशियाकमाईकोलकाताखेलचीननोएडाप्रमुख शहरब्लॉग पेजभारतमुंबईयूरोपराजस्थानराज्यरायपुर शहररिहान इब्राहिम मुंबई/अंतरराष्ट्रीयलाइफस्टाइलवर्ल्डसक्सेस स्टोरीसंपादकीय ब्लॉगसेलिब्रिटी इंटरव्यूसेलिब्रिटी न्यूज़
Trending

कैसे भारतीय सेना का जांबाज, एल्बो सर्जरी के बाद भी बना विश्व विजेता, जानिए सब कुछ, नीरज चोपड़ा की बायोग्राफी

newsmrl.com How Indian Army's braveheart became a world champion, know everything Neeraj Chopra biography exclusive report by Rihan Ibrahim

नीरज चोपड़ा (जन्म 24 दिसंबर) नीरज ने 87.58 मीटर भाला फेंककर टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है

नीरज चोपड़ा का जन्म 24 दिसंबर 1997 को हरयाणा राज्य के पानीपत नामक शहर के एक छोटे से गाँव खांद्रा में एक किसान रोड़ समुदाय में हुआ था। नीरज के परिवार में इनके पिता सतीश कुमार पेशे से एक छोटे किसान हैं और इनकी माता सरोज देवी एक गृहणी है। जैवलिन थ्रो में नीरज की रुचि तब ही आ चुकी थी जब ये केवल 11 वर्ष के थे और पानीपत स्टेडियम में जय चौधरी को प्रैक्टिस करते देखा करते थे।

नीरज चोपड़ा एक भारतीय एथलिट हैं जो ट्रैक एंड फील्ड के जेवलिन थ्रो नामक गेम से जुड़े हुए हैं तथा राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व करते हैं। नीरज एक एथलीट होने के साथ-साथ भारतीय सेना में सूबेदार पद पर भी तैनात हैं और सेना में रहते हुए अपने बेहतरीन प्रदर्शन के बदौलत इन्हे सेना में विशिस्ट सेवा मैडल से भी सम्मानित किया जा चूका है।

नीरज चोपड़ा की शिक्षा
भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई हरियाणा से ही की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इन्होंने ग्रेजुएशन तक की डिग्री प्राप्त की है। अपनी प्रारंभिक पढ़ाई को पूरा करने के बाद नीरज चोपड़ा ने बीबीए कॉलेज ज्वाइन किया था और वहीं से उन्होंने ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की थी।

नीरज चोपड़ा के कोच
नीरज चोपड़ा ने अपनी इस बुलंदी तक पहुंचने के लिए अनेकों प्रकार के प्रशिक्षण प्राप्त किए और नीरज चोपड़ा ने जर्मनी के दिग्गज जैवलिन थ्रो खिलाड़ी उवे होन के अंतर्गत रहकर सीखा। नीरज चोपड़ा ने जिस कोच से जैवलिन थ्रो सीखा था वह एक सेवानिवृत्त जर्मनी ट्रैक और फील्ड एथलीट थे, जिन्होंने भाला फेंकने में भाग लिया था। नीरज चोपड़ा के कोच इतने सक्षम हैं, कि वह 100 मीटर या उससे अधिक दूरी तक भाला फेंक सकते हैं। नीरज चोपड़ा के कोच ने 104.80 मीटर दूरी तक भाला फेंक के वर्ल्ड रिकॉर्ड कायम कर दिया है। नीरज चोपड़ा को इंस्पिरेशन भी इन्हीं के द्वारा प्राप्त हुई थी और इन्होंने इन्हीं की कोचिंग क्लासेस को ज्वाइन भी किया और वर्तमान समय में आप इनकी बुलंदियों को देख ही सकते हैं।

बायडगोसज्च्ज़, पोलैंड में आयोजित 2016 आइएएएफ U20 विश्व चैंपियनशिप में उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की। इस पदक के साथ साथ उन्होंने एक विश्व जूनियर रिकॉर्ड भी स्थापित किया है। और 2021 टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीता 2016 के दक्षिण एशियाई खेलों में उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी करते हुए 82.23 मीटर तक भाला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता था। ऐसे प्रदर्शन के बावजूद भी वे 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में स्थान पाने में वह विफल रहे क्योंकि अर्हता प्राप्त करने के लिए अंतिम तिथि 11 जुलाई थी।

  • नीरज चोपड़ा भारतीय सेना के सिपाही भी हैं।
  • Military career
  • शाखा- सेना
  • सेवा वर्ष- 2016–अब तक
  • उपाधि- Subedar – Risaldar of the Indian Army.svg सूबेदार
  • सेवा संख्यांक- JC-471869A
  • दस्ता- राजपूताना राइफल्स
  • सम्मान- Vishisht Seva Medal ribbon.svg विशिष्ट सेवा पदक
  • इस समय वो भारतीय सेना के राजस्थान राइफल्स में कार्यरत हैं।

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में सम्पन्न हुए 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों में उन्होंने 86.47 मीटर भाला फेंककर स्पर्धा का स्वर्ण पदक अपने नाम किया था।

मई 2019 में नीरज को प्रैक्टिस के दौरान गंभीर चोट आई थी, मुंबई के डॉक्टर दिनशा परदीवाला के द्वारा उनकी एल्बो सर्जरी भी हुई थी ईसके बाद भी आज वो ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता हैं।

नीरज चोपड़ा की कुल नेट वर्थ
नीरज चोपड़ा वर्तमान समय में जेएसडब्ल्यू स्पोर्ट्स टीम में शामिल है। नीरज चोपड़ा ने स्पोर्ट्स ड्रिंक की दिग्गज कंपनी गोटोरेड द्वारा ब्रांड एंबेसडर के रूप में चयनित भी किए गए थे। वर्तमान समय में नीरज चोपड़ा की कुल संपत्ति लगभग 5 मिलियन डॉलर के आसपास है।

ओलंपिक जीतने के बाद नीरज चोपड़ा पर पुरस्कारों की हुई बारिश
जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं कि नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देते हुए फाइनल राउंड में प्रथम स्थान पाते हुए गोल्ड मेडल हासिल किया। नीरज चोपड़ा के टोक्यो ओलंपिक में मैच जीतने के बाद भारत लौटते ही इन्हें भारत के राज्य सरकारों के द्वारा अनेकों प्रकार के पुरस्कार प्रदान किए जा रहे हैं।

हरियाणा के इस नौजवान को हरियाणा राज्य सरकार के द्वारा लगभग ₹6,00,00,000 दिए जा रहे हैं और ना केवल हरियाणा राज्य के द्वारा बल्कि देश के बहुत से राज्य सरकारों के द्वारा इन्हें पुरस्कार प्रदान किया जा रहा है। नीरज चोपड़ा को हरियाणा राज्य सरकार के साथ-साथ पंजाब राज्य सरकार ने भी एक भारी-भरकम इनाम प्रदान किया है। पंजाब राज्य सरकार ने नीरज चोपड़ा को लगभग 2 करोड रुपए का पुरस्कार दिया है।

इतना ही नहीं इन सभी चीजों की बात नीरज चोपड़ा को देश के अलग-अलग टीम ने सहायता प्रदान करते हुए कुछ धनराशि प्रदान कराई है, इस के संदर्भ में BCCI और फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग के द्वारा एक एक करोड रुपए का इनाम दिया गया है। इतना ही नहीं भारत सरकार ने यह भी ऐलान कर दिया है कि नीरज चोपड़ा को किसी अच्छे पद पर एक सरकारी नौकरी दी जाएगी।

देश की जानी मानी कंपनी महिंद्रा के ओनर आनंद महिंद्रा ने यह ऐलान कर दिया है कि नीरज चोपड़ा के भारत लौटते ही, वह उन्हें एक्सयूवी 700 गिफ्ट करेंगे।

नीरज चोपड़ा को यह अपॉर्चुनिटी भी दी गई है कि उन्हें कभी भी कहीं जब प्लॉट लेने की आवश्यकता पड़ेगी, तब उन्हें उस प्लॉट में लगभग 50% तक का कंसेशन मिल जाएगा। इतना ही नहीं इन सभी के बावजूद नीरज चोपड़ा को पंचकूला में बनने वाले एथलीट्स सेंटर का हेड बना दिया जाएगा।

नीरज चोपड़ा ने अपनी उपलब्धि को समर्पित किया फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह को
टोक्यो ओलंपिक में ऐतिहासिक जीत हासिल करने के बाद भारत के मशहूर एथलीट्स मिल्खा सिंह का ध्यान करते हुए इन्होंन अपनी इस उपलब्धि को उन्हें समर्पित कर दिया। फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह ने लोगों के लिए एथलीट्स के क्षेत्र में बहुत ही बड़ी अपॉर्चुनिटी लेकर आए थे, यह भारत के एक ऐसे एथलीट्स रहे जिन्होंने लोगों को काफी इंस्पायर भी किया।

नीरज चोपड़ा ने अपनी इस उपलब्धि को फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह को समर्पित करने का विचार बनाया और अपनी उपलब्धि फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह को समर्पित कर दिए।

व्यक्तिगत जानकारी
राष्ट्रीयता
भारतीय
जन्म
24 दिसम्बर 1997 (आयु 23)
पानीपत, हरियाणा, भारत

खेल
देश- भारत
खेल- ट्रैक और फील्ड
प्रतिस्पर्धा- भाला फेंक
कोच- उवे हॉन

उपलब्धियाँ एवं खिताब
व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ- राष्ट्रीय रिकॉर्ड 87.07m (2021)
पदक अभिलेख- पुरुषों का भाला फेंक
Representing – भारत.

प्रतियोगिता

ओलंपिक खेल
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2021 टोकियो भाला फेंक

एशियाई खेल
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2018

जकार्ता भाला फेंक
राष्ट्रमण्डल खेल
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2018

राष्ट्रमण्डल खेल भाला फेंक
एसियन प्रतियोगिता
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2017

भुवनेश्वर भाला फेंक
दक्षिण एशियाई खेल
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2016

गुवाहाटी/शिलांग भाला फेंक
वर्ल्ड जूनियर प्रतियोगिता
स्वर्ण पदक – प्रथम स्थान 2016

बिदुगोश्ट भाला फेंक
एशियाई जूनियर चैंपियनशिप
रजत पदक – दूसरा स्थान 2016 हो ची मिन्ह शहर
.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: