Akanksha-Tiwarinewsmrlकमाईकोलकाताक्राइमछत्तीसगढ़जयपुरटेक्नोलॉजीडार्क न्यूज़नोएडाप्रमुख शहरबाज़ारबिज़नेसमुंबईमोबाइलरायपुर शहर
Trending

अन्तराज्यीय हाई टेक सायबर ठगी के रैकेट का हुआ भांडाफोड़ • चार आरोपियो से लाखो का माल हुआ बरामद, IPS अंकिता शर्मा की टीम को मिली बड़ी सफलता।

newsmrl.com Interstate high tech cyber fraud racket busted • Goods worth lakhs recovered from four accused, IPS Ankita Sharma's team got a big success. exclusive report by Akanksha Tiwari

Order No. 0356#RPR

अन्तराज्यी हाई टेक सायबर ठगी के रेकेट हुआ भाडाफोड़, चार आरोपियो से लाखो का माल हुआ बरामद

राजधानी के चारों आरोपियो का गुजरात , झारखण्ड एवं उत्तर प्रदेश से था सम्पर्क • ऑन लाईन शापिंग के काले कारनामे का सच हुआ उजागर लगभग 75 नग स्मार्ट फोन , 03 नग 50 इंच स्मार्ट टीव्ही 0 , 04 नग लेपटाप , 01 नग आई ० पेड 0 , 30 नग केडिट कार्ड , 130 नग विभिन्न कम्पनियो के सिम कार्ड 01 नग बारकोड स्कैनर एवं अन्य इलेक्ट्रानिक उपकरण के साथ नगदी रकम 304800 / रु भी बरामद।

ओने – पौने दाम विवरण : – बीते कई दिनों से राजधानी में सायबर ठगी के हाईटक रैकेट के संबंध में सूचना प्राप्त होने पर पुलिस उपमहानिरीक्षक , सह वरिष्ठ पुलिस अधिक्षक श्री अजय कुमार यादव के निर्देशन पर एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामिण श्री तारकेश्वर पटेल के मार्गदर्शन में नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक अंकिता शर्मा ( भा ० पु o से ) के नेतृत्व में टीम गोपनिय रुप लगातार जानकारी एकत्र करते काम कर रही थी .
इस दौरान ऑन लाईन मोबाईल के जरिये भारी मात्रा में शापिग करने वाले लोगो को शक के दायरे पर रखते हुए , इनकी गतिविधियो पर लगातार काई दिनो तक निगाह रखी गई , इस दौरान यह ज्ञात हुआ की इस प्रकार मोबाईल के जरिये भारी मात्रा में ऑन लाईन शॉपिंग करने वाले लोग फर्जी नाम पता का उपयोग कर सामान मगाते है एवं मगाये गये सामान देते है ।

पूरे घटना कम पर लगातार काम कर रहे नगर पुलिस अधीक्षक अंकीता शर्मा ( भा 0 पु 0 से 0 ) को सबसे महत्वपूर्ण जानकारी यह मिली की राजधानी रायपुर के लोगो का अन्य राज्यों के लोगो से भी ऑन लाईन शापिग के गौरख धंधे में लगातार जुडाव बना हुआ है एवं अन्य राज्यों के लोग जैसे झारखण्ड राज्य के धनबाद , गुजरात के अहमदाबाद एवं उत्तर प्रदेश , राजस्थान के कई शहरो से राजधानी के लोग लगातार सम्पर्क में है एवं यह लोग उक्त राज्यो में रह रहे , रैकेट के सरगनाओ के दिशा निर्देशन पर कार्य करते में बैठे अपने आकाओ को पैसे भेज रहे है ।

उक्त महत्वपूर्ण सूचना से पुलिस उपमहानिरीक्षक हुए . धनबाद एवं अहमदाबाद जैसे शहरो महोदय को तत्काल अवगत कराते हुए निरीक्षक योगिता खपरण्जेथाना प्रभारी डी 0 डी 0 नगर , निरीक्षक गिरिश तिवारी थाना प्रभारी कबीर नगर निरीक्षक गौतमचंद गावडे , उपनिरीक्षक सिंकंदर कुरै थाना आजाद चौक , चार अलग अलग टीम गठित कर घटना के पहलू पर पृथक पृथक काम करने आदेशित किया गया . इस दौरान सर्वप्रथम टीम के द्वारा डी 0 डीनगर थाना क्षेत्र के डगनिया निवासी सुदीप देवागन को टीम के द्वारा आपने अभिरक्षा में लेते हुए पूछताछ शुरु किया गया , जिससे बारिकी से पूछ ताछ करने पर उसके द्वारा बताया गया की उसका सरगनाह झारखण्ड के घनबाद में बैठ कर ऑन लाईन सायबर ठगी के माध्यम से ओटीपी o जनरेट कर ( ठगे ) कमाए हुए रुपयो का फ्लिपकार्ड , अमेजन आदि शापिग बेव साईड पर गोबाईल फोन , टीव्ही 0 एवं अन्य इलक्ट्रनिक उपकरण का आर्डर छत्तीसगढ़ निवासी सुदीप देवांगन , के पते पर भिन्न भिन्न नामों से करता था , आर्डर के सामान को प्राप्त करने के पश्चात सुदीप देवांगन चोरी छुपे रह रह कर अपने लोगो को यह सामान बिकी कर देता था एवं बिकी से प्राप्त रकम से अपना कमिशन काट कर उक्त सम्पूर्ण सायबर ठगी के रैकेट के डाल देता था ।

  • सुदीप देवागंन के पास मास्टर घनबाद में बैठे प्रिंस नामक व्यक्ति से 116 नग विभिन्न कम्पनियों के सिम कार्ड ,
  • रियल मी कम्पनी के सी / 11 मोबाईल 03 नग .
  • सैमसंग ग्लेकसी एग 01 02 नग सैमसंग ग्लैक्सी एम -02 02 नग ,
  • नजारो 30 ए 01 नग माईको सापट लुनिया 01 नग , एम आई के 01 नग रियलमी 09 ए 01 नग स्मार्ट 03 इनफिनिक्स 05 01 नग , लाइफ वाटर 01 नग , रियलमी सी / 2001 नग फिलिपकार्ड बाक्स सहित , रियलमी सी / 2101 नग फिलिपकार्ड बाक्स सहित ,
  • 03 नग 50 इंच एम 0 आई 0 का स्मार्ट टीव्ही 0 , 02 नग लेपटाप , एवं 120000 / रु नगदी बरामद हुआ ।

सुदीप देवागंन ने बताया की इसी तरिकाए वारदात के अनुरुप तुषार जैन , निवासी डगनिया थाना डी 0 डी 0 नगर , गौरव बलानी निवासी गुढियारी एवं आशिष झा निवासी गुढियारी भी इस गौरख धंधे में लिप्त है । जिसकी सूचना पर तत्काल घेराबंदी कर इन्हे पकडा गया

जिस पर से तुषार जैन के पास से 21 नग विभिन्न बैंको के केडिट कार्ड , 03 नग डाटा केबल , आरोपी द्वारा उपयोग किये हुए , 02 नग माइकोमैक्स , 02 विडियोकोन , 03 लीटीव्ही , रियलमी सी / 11 04 नग , सैमसंग गैलेक्सी एम 02 03 नग , एम 00101 नग , रेडमी 09 ए 01 नग , आशुश जैन फोन 02 नग , लावा प्रो मैक्स 01 नग , इनफिनिक्स स्मार्ट 05 01 नग , लाइफ 01 नग लाइफ विड 001 नग , मोबाईल

एवं 02 नग लेपटाप एक नग बारकोड स्कैनर , एवं 50000 / रु नगदी रकम बरामद हुए ।

  • आशिष झा के पास से रियलमी सी / 1102 नग , रियलमी सी / 20 02 नग इनफिनिक्स स्मार्ट 05 03 नग , सैमसंग गैलेक्सी एम 02 02 नग , आशुश जैन फोन 02 नग , रेडमी 09 ए 01 नग , मोटो सी 01 नग , कुलपेड मैगा 01 नग , सैमसंग गैलेक्सी एम 01 01 नग , आशुश जैन मैक्स प्रो 01 नग , माईकोसाफ्ट लुनिया 01 नग एवं 74800 / रु नगदी रकम बरामद हुआ , तथा गौरव बलानी के पास से रियलमी सी / 11 02 नग , रियलमी सी / 2003 नग , सैमसंग गैलेक्सी एम 0202 नग , सैमसंग गैलेक्सी एम 01 01 नग , इनफिनिक्स स्माट 05 02 नग आशुश जैन फोन 03 नग , लाइफ वाटर लाईन 01 नग , लाइफ वाटर 11 01 नग , आशुश जैन 105 01 नग , एवं पोगोएक्स 03 प्रो 01 नग , मोबाईल एव 60000 / रु नगदी रकम बरामद हुआ ।

इस प्रकार चारो आरोपीयो से 75 नग मोबाईल , 04 नग लेपटाप , 03 नग 50 इंच एल 0 ई 0 डी 0 टीव्ही 0 , आदि विभिन्न इलेक्ट्रानिक उपकरण एवं नगदी 304800 / रु बरामद हुए है ।

उक्त आरोपियो से गहन पूछताछ करने पर ज्ञात हुआ कि इनके द्वारा यह कार्य 5-6 वर्षों से किया जा रहा है एवं आरोपियो के पास से बरामद हुई उक्त सामाग्री को वे बेचने की फिराक में थे , लगभग ढेड वर्ष से लॉकडाउन होने के कारण बेचने में असफल रहे थे , जिसे बेचने से पहले पुलिस ने बरामद कर लिया है ।

चारो आरोपिगणों के विरुद्ध थाना डी.डीनगर में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की जा रही है उपरोक्त सम्पूर्ण कार्यवाही में नगर पुलिस अधीक्षक आजाद चौक की विशेष टीम के आरक्षक तोषित सिंह कमांक 2578 , आरक्षक कुलदीप पाठक कमांक 1462 , आरक्षक अनिल राजपूत कमांक 1459 आरक्षक योगेश शर्मा क्रमांक 1251 , आरक्षक हरजीत सिंह कमांक 101 का महत्वपूर्ण योगदान रहा । निकट भविष्य में अभी और लोगो के पकडे जाने एवं सामान बरामद किये जाने की संभावना है ।

उक्त सायबर ठगी के मास्टर धनबाद निवासी प्रिंस के अनुरुप , गुजरात के अहमदाबाद से मंतग एवं उत्तर प्रदेश से अमन एवं राजस्थान से हिमांशु भी राजधानी रायपुर के लोगो को अपने अनुसार सायबर ठगी के रैकेट शामिल कर उपयोग कर रहे थे , जिनकी तलाश पुलिस के द्वारा की जा रही है एवं जल्दी ही वे पुलिस की गिरफ्त में होगे । उक्त कार्यवाही से सायबर ठगी के महत्वपूर्ण रैकेट को तोड़ने में सफलता मिली है एवं आशा की जाती है की सायबर ठगी के प्रकरणों में कमी आएगी । उपरोक्त सम्पूर्ण प्रकरण की जाँच के दौरान आरोपियो के द्वारा सायबर ठगी का उपयोग करते हुए तथा ऑन लाईन शापिंग के माध्यम से मनीलौडरिंग कर ब्लैक मनी ( अवैध सम्पत्ति ) को वाईट मनी ( वैध सम्पत्ति ) में बदलने का नायाब तरिका अपनाया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: