Rihan Ibrahimअमेरिकाएशियाकोलकाताकोविड-19दिल्लीनोएडाभारतमुंबईयूरोपवर्ल्ड
Trending

भारत में हैरान करने वाली थी कोरोना की दूसरी लहर, बनी हुई है तीसरी लहर के आने की आशंका- यूएन

newsmrl.com The second wave of Corona was surprising in India, there is a possibility of the third wave coming - UN update by rihan Ibrahim

भारत में कोरोना की दूसरी लहर को लेकर संयुक्त राष्ट्र की रैजिडेंट को-आर्डिनेटर रेनाटा डेजालिएन इसकी रफ्तार बेहद हैरान करने वाली है।

इसको देखते हुए महामारी की तीसरी लहर को लेकर सरकार को अपनी पुख्‍ता तैयारी रखनी होगी। संयुक्‍त राष्‍ट्र को दिए एक इंटरव्‍यू में उन्‍होंने कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र इस संकट के दौरान भारत के साथ खड़ा है और हर संभव मदद कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि महामारी की पहली लहर के दौरान मामलों के तेजी से बढ़ने में 6-7 महीने का समय लगा था। इसलिए इसकी तैयारी के लिए भी समय मिल गया था। लेकिन दूसरी लहर के दौरान संक्रमण के मामले बड़ी तेजी से बढ़े।

भारत समेत पूरे विश्‍व ने इस महामारी को पहली बार झेला है। पहली लहर के बाद उम्‍मीद की जा रही थी कि हालात बेहतर हो जाएंगे। वहीं पहली और दूसरी लहर की बात करें तो दोनों में संक्रमण की रफ्तार में काफी अंतर था। इसलिए उस वक्‍त उससे बाहर निकलना आसान हो गया था। उनका ये भी कहना था कि पहली लहर से बाहर आने के बाद दूसरी लहर की आशंका बनी हुई थी। यही वजह थी कि इसकी तैयारी को लेकर सभी पूरी तरह से चौकस थे। लेकिन इस बार इसकी रफ्तार हमारी सोच से कहीं अधिक थी, जिसने सभी को हैरान कर दिया। उन्‍होंने माना कि भारत में अब हालात पहले की अपेक्षा काफी बेहतर हैं और विशाल जनसंख्‍या के बाद भी मामलों में अब लगातार गिरावट आ रही है। हालांकि उन्‍होंने कोरोना से हो रही मौतों पर चिंता जरूर जताई है। उनके मुताबिक भारत के अलग-अलग राज्‍यों में महामारी की लहर का प्रभाव भी अलग रहा है। देश्‍ में आई दूसरी लहर के दौरान अधिकतर लोग इससे प्रभावित हुए और इसकी चपेट में आए

रेनाटा डेजालिएन का मानना है कि भारत में दूसरी लहर का चरम बिंदु अब आकर निकल गया है। इस विनाशकारी दूसरी लहर ने तीसरी लहर का मजबूती से सामना करने के लिए कई सबक भी सिखाए हैं। उन्‍होंने कहा कि ये पहले से पता था कि दूसरी लहर जरूर आएगी। लेकिन हम मान रहे थे कि ये भी पहले की ही तरह रहेगी। लेकिन इसके उलट सबकुछ हुआ जिससे सभी हैरान रहे। इस इंटरव्‍यू के दौरान उन्‍होंने ये भी कहा कि पहली और दूसरी लहर के बीच हुई लापरवाही भी खतरनाक साबित हुई है। उन्‍होंने ये भी माना है कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका लगातार बनी हुई है। उनके मुताबिक अब तक इस बात का पता नहीं है कि ये कैसी होगी। ये बेहद मुश्किल काम है। इसकी वजह उन्‍होंने वायरस के बारे में कम जानकारी का होना माना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: