newsmrl
Trending

नीलगिरी के 1600 पेड़ कटे, सरपंच ने कहा- डेढ़ एकड़ में सागौन भी काटा; ADM बोलीं- अनुमति नहीं ली गई

newsmrl.com 1600 trees of eucalyptus were cut, the sarpanch said - teak is also cut in one and a half acres; ADM Bids - Permission not taken update by Akanksha Tiwari

Order No. 0356#RPR

रायपुर के बरतोरी में 5000 पेड़ DFO गुरुवार को जांच करने पहुंचे। 4 घंटे के निरीक्षण के बाद कहा कि करीब 1600 पेड़ काटे गए हैं।

सभी नीलगिरी के हैं। जबकि सरपंच ने दावा किया है कि डेढ़ एकड़ में सागौन भी काटा गया है। वहीं ADM पद्मनी भोई ने साफ कर दिया है कि पेड़ों को काटने की कोई अनुमति नहीं ली गई।

दरअसल, तिल्दा और खरोरा के बीच बरतोरी इंडस्ट्रियल एरिया है। यहां से करीब 2 किमी दूर बसे जलसो गांव की 150 एकड़ जमीन पर हरे-भरे पेड़ों को काटा गया है। DFO विश्वेश झा सुबह करीब सुबह 6 से 10 बजे तक मौके का निरीक्षण किया। वहीं जलसो के सरपंच गणेश साहू का कहना है कि पेड़ों को काटने से पहले उसकी या ग्राम पंचायत की अनुमति नहीं ली गई। जबकि नियम है कि किसी को अपनी जमीन पर भी पेड़ों को काटने से पहले कलेक्टर ऑफिस में आवेदन देना पड़ता है।

कुदरत के ‘ऑक्सीजन सिलेंडर’ पर विकास की आरी रायपुर के बरतोरी में 125 एकड़ में लगे 5000 पेड़ काट दिए गए, वन विभाग के अफसर बोले- जानकारी नहीं

अफसरों की अपनी-अपनी बात, जिम्मेदार कौन- पता नहीं
पेड़ कटाई को लेकर सब मामला एक-दूसरे पर डाल रहे हैं। हर अफसर की अपनी-अपनी बात है। हालांकि इसके लिए जिम्मेदार कौन है, यह अभी तक पता नहीं चल सका है। DFO विश्वेश झा ने इसे राजस्व विभाग पर टाल दिया है। साथ ही यह भी कहा है कि समीक्षात्मक टिप्पणी न करें। वहीं कलेक्टर डॉ. एस भारती दासन ने कहा है, मामले के लिए ADM से बात करें। यह भी कहा कि नीलगिरी के पेड़ काटने के लिए अनुमति की जरूरत नहीं पड़ती।

यहां भी नहीं बख्शा गया, धरसीवां में भी बबूल के पेड़ों पर चली कुल्हाड़ी
वहीं धरसीवां ब्लॉक की ग्राम पंचायत देवरी के कोल्हान नाला खार में लॉकडाउन का फायदा उठाकर सैकड़ों की संख्या में बबूल के पेड़ काट दिए गए और गाड़ियों में भरकर ले गए। अवैध कटाई के चलते खेतिहर भूमि मैदान में तब्दील हो रही है। ग्राम पंचायत देवरी के पंच मिथिलेश वर्मा ने बताते हैं कि पंचायत के प्रस्ताव के बगैर बबूल के पेड़ों को काटा गया है। पलारी तहसीलदार हरिशंकर पैकरा का कहना है कि किसी भी व्यक्ति को हरे भरे पेड़ काटने का अधिकार नहीं है, चाहे वे पेड़ उनके खुद की जमीन पर ही क्यों न लगे हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: