Kiran Rawatअंतर्राष्ट्रीयआपदाएशियाकोविड-19यूरोप
Trending

स्पेन में कोविशील्ड का पहला डोज लेने वाले लोगों को फाइजर का लगेगा दूसरा टीका, मिश्रण से 30-40 गुना अधिक एंटीबॉडी का दावा

newsmrl.com Those taking the first dose of AstraZeneca in Spain will receive Pfizer's second vaccine, claiming 30-40 times more antibodies than the mixture update by nujhat ashrafi

स्पेन में एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन (कोविशील्ड) का पहला डोज ले चुके लोगों को दूसरा डोज फाइजर वैक्सीन का लगाया जाएगा।

स्वास्थ्य मंत्री के इस प्रस्ताव पर जन स्वास्थ्य आयोग ने मंजूरी दे दी है। इसके तहत 60 वर्ष से कम उम्र के सभी लोगों को दूसरा डोज फाइजर वैक्सीन का दिया जाएगा, जिन्हें पहला डोज कोविशील्ड का लगा है। स्पेन के प्रमुख न्यूजपेपर El Pais ने मंगलवार को सूत्रों के हवाले से यह रिपोर्ट दी है।

स्टडी में विशेषज्ञों ने पाया कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के पहले टीके के बाद फाइजर mRNA कोविड-19 वैक्सीन का दूसरा डोज लगाया जा सकता है। यह बेहद सुरक्षित और प्रभावी है। शुरुआती परिणाम के मुताबिक, जिन लोगों को पहला एस्ट्राजेनेका का केवल एक डोज लगा है, उनकी तुलना में दूसरा डोज फाइजर वैक्सीन का लेने वाले लोगों के खून में IgG एंटीबॉडी 30-40 गुना अधिक मिला है।

इस प्रस्ताव का असर उन 15 लाख लोगों पर पड़ेगा, जिन्होंने सरकार की ओर से ऐस्ट्राजेनेका को बैन किए जाने से पहले इसका पहला टीका लगवा लिया था। स्पेन ने खून का थक्का जमने की चिंताओं को लेकर 60 वर्ष से कम उम्र के लोगों के लिए इसका प्रयोग रोक दिया है। सरकार ने यह कदम कारलोस III हेल्थ इंस्टीट्यूट की ओर से अध्ययन के बाद उठाया है। स्टडी रिपोर्ट में कहा गया है कि इन दोनों वैक्सीन का मिश्रण सुरक्षित और प्रभावी है

ट्रायल में शामिल विशेषज्ञों के मुताबिक, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का दूसरा डोज एंटीबॉडी को डबल करता है, लेकिन यदि दूसरा डोज फाइजर का लिया जाए तो एंटीबॉडी कई गुना बढ़ जाती है। यह अध्ययन 18-59 वर्ष के 670 लोगों पर किया। इन लोगों ने पहला डोज एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का लिया था। इनमें से 450 को दूसरा डोज फाइजर का लगाया गया।

शोधकर्ताओं में शामिल डॉ. मागडालेना कैंपिन्स ने कहा कि केवल 1.7 फीसदी लोगों को पर सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, सामान्य बेचैनी जैसे लक्षण दिखे। उन्होंने कहा कि ये लक्षण गंभीर श्रेणी में नहीं आते हैं। इस तरह का एक शोध ब्रिटेन भी किया गया था, जहां लोगों को एक डोज फाइजर वैक्सीन का दिया गया तो दूसरा एस्ट्राजेनेका टीके का। इसमें पता चला कि अधिकतर लोगों को सिरदर्द या ठंड लगने जैसी शिकायतें हुईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: