18+ सेलिब्रिटी स्कैंडल्सअंतर्राष्ट्रीयअमेरिकाआपदाएशियाकरन रॉय UP/BIHAR/UK/JHकेंद्रकोविड-19प्रधानमंत्रीभारतयूरोपवर्ल्डसेलिब्रिटी न्यूज़
Trending

ओवर कॉन्फिडेंस और गलत फैसलों से हालात बिगड़े, दुनिया के टॉप-6 प्रतिष्ठित अंतराष्ट्रीय मीडिया ने की मोदी की आलोचना

newsmrl.com exclusive report by Kiran Rawat

कोरोना के मामले जिस तरह से देश में बेकाबू हैं, जबकि मई में पीक आना अभी बाकी ही है, ऐसे में विदेशी मीडिया मोदी सरकार को किस तरह कठघरे में खड़ी कर रही है आइए देखते हैं…

उसकी एक बड़ी वजह 2021 की शुरुआत में सरकार का चुनावी रणनीति, त्योहारों में ढिलाई, वैक्सिनेशन शुरू करने में देरी, विदेशों को 6 करोड़ वैक्सीन निर्यात करना और आने वाली लहर से निश्चिंत हो जाना माना जा रहा है

टाइम मैगजीन: भारत में कोरोना को रोकने में PM मोदी फेल, वैक्सिनेशन भी धीमा

दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन में 23 अप्रैल के लेख में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोरोना की लड़ाई में नाकाम बताया गया। लेख में सवाल किया गया है कि कैसे इस साल कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते तैयारी नहीं की गई।

प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा गया कि जिम्मेदारी उसके पास है, जिसने सभी सावधानियों को नजरअंदाज किया। जिम्मेदारी उस मंत्रिमंडल के पास है, जिसने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ में कहा कि देश में कोरोना के खिलाफ उन्होंने सफल लड़ाई लड़ी। यहां तक कि टेस्टिंग धीमी हो गई। लोगों में भयानक वायरस के लिए ज्यादा भय न रहा।

यहां पढ़ें टाइम की पूरी खबर:

https://time.com/5957118/india-covid-19-modi/

द गार्जियन: भारत में बदतर हालात के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ओवर कॉन्फिडेंस

ब्रिटेन के अखबार ‘द गार्जियन’ ने भारत में कोरोना बने भयानक हालात को लेकर प्रधानमंत्री मोदी को घेरा है। 23 अप्रैल को अखबार ने लिखा- भारतीय प्रधानमंत्री के अति आत्मविश्वास (ओवर कॉन्फिडेंस) से देश में जानलेवा कोविड-19 की दूसरी लहर रिकॉर्ड स्तर पर है।

लोग अब सबसे बुरे हाल में जी रहे हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड दोनों नहीं है। 6 हफ्ते पहले उन्होंने भारत को ‘वर्ल्ड फार्मेसी’ घोषित कर दिया, जबकि भारत में 1% आबादी का भी वैक्सीनेशन नहीं हुआ था।

द गार्जियन की पूरी खबर यहां पढ़ें :

https://www.theguardian.com/world/commentisfree/2021/apr/23/the-guardian-view-on-modis-mistakes-a-pandemic-that-is-out-of-control

द न्यूयॉर्क टाइम्स: गलत फैसलों और सरकार की अनदेखी से भारत में कोरोना बेकाबू

अमेरिकी अखबार ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने भारत के संदर्भ में 25 अप्रैल को लिखा कि साल भर पहले दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन लगाकर कोरोना पर काफी हद तक काबू पाया, लेकिन फिर एक्सपर्ट्स की चेतावनी की अनदेखी की गई। आज कोरोना के मामले बेकाबू हो गए हैं। अस्पतालों में बेड नहीं है। प्रमुख राज्यों में लॉकडाउन लग गया है। सरकार के गलत फैसलों और आने वाले मुसीबत की अनदेखी करने से भारत दुनिया में सबसे बुरी स्थिति में आ गया, जो कोरोना को मात देने में एक सफल उदाहरण बन सकता था।

यहां पढ़ें ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की पूरी खबर:

https://www.nytimes.com/2021/04/09/world/asia/india-covid- vaccine-variant.html

ऑस्ट्रेलियन फाइनेंशियल रिव्यू:


सबसे तीखा रिएक्शन ऑस्ट्रेलिया के अखबार ऑस्ट्रेलियन फाइनेंशियल रिव्यू में देखने को मिला है। कार्टूनिस्ट डेविड रोव ने एक कार्टून में दिखाया है कि भारत देश जो कि हाथी की तरह विशाल है। वह मरने वाली हालत में जमीन पर पड़ा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसकी पीठ पर सिंहासन की तरह लाल गद्दी वाला आसन लगाकर बैठे हुए हैं। उनके सिर पर तुर्रेदार पगड़ी और एक हाथ में माइक है। वह भाषण वाली पोजिशन में हैं। यह कार्टून सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

द वाशिंगटन पोस्ट: पाबंदियों से जल्दी राहत देने की वजह से भारत में कोरोना फिर बढ़ा

अमेरिकी अखबार ‘द वाशिंगटन पोस्ट’ ने 24 अप्रैल के अपने ओपिनियन में लिखा कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर की सबसे बड़ी वजह पाबंदियों में जल्द राहत मिलना है। इससे लोगों ने महामारी को हल्के में लिया। कुंभ मेला, क्रिकेट स्टेडियम जैसे इवेंट में दर्शकों की भारी मौजूदगी इसके उदाहरण हैं। एक जगह पर महामारी का खतरा मतलब सभी के लिए खतरा है। कोरोना का नया वैरिएंट और भी ज्यादा खतरनाक है।

wahington post की पूरी खबर इस लिंक पे जा के पढ़ें

https://www.washingtonpost.com/opinions/global-opinions/indias-sudden-coronavirus-wave-is-not-a-far-away-problem/2021/04/23/f363bda2-a3a3-11eb-85fc-06664ff4489d_story.html

BBC ने कहा- भारत के हेल्थकेयर सिस्टम पर बुरा असर पड़ा

दो दिन पहले प्रकाशित लेख में ब्रिटिश न्यूज एजेंसी BBC ने कहा कि कोरोना के रिकॉर्ड मामलों से भारत के हेल्थकेयर सिस्टम पर बुरा असर पड़ा है। लोगों को इलाज के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन नहीं है। कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी की वजह हेल्थ प्रोटोकॉल में ढिलाई, मास्क पर सख्ती नहीं होना और कुंभ मेले में लाखों लोगों की उपस्थिति रही।

यहां पढ़ें BBC की पूरी खबर:

https://www.bbc.com/news/world-asia-56858403

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: