18+ सेलिब्रिटी स्कैंडल्सआकांक्षा तिवारी CG/MPआपदाउत्तर प्रदेशकमाईकोविड-19क्राइमडार्क न्यूज़बिज़नेस
Trending

देश का नामी न्यूरोलॉजिस्ट रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में गिरफ्तार हुआ।

newsmrl. exclusive crime report by Akanksha tiwari

Order No. 0356#RPR

गाजियाबाद में मंगलवार को देश का नामी न्यूरोलॉजिस्ट रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी में गिरफ्तार हुआ।

उसके 2 सहयोगियों को भी स्वाट और घंटाघर कोतवाली पुलिस की टीम ने पकड़ा है। तीनों के पास से 70 रेमडेसिविर इंजेक्शन और 36 लाख रुपये से ज्यादा कैश मिला। करीब 48 हजार रुपये कीमत का एक और इंजेक्शन भी इनके पास से मिला है।

कई अधिकारियों से लोग रेमडेसिवर की गुहार लगाते थे। अफसर इंतजाम नहीं कर पाते, लेकिन ब्लैक में उन तक इंजेक्शन पहुंच जाता था। इसी क्लू पर पुलिस ने पड़ताल शुरू की और गैंग तक पहुंच गई। आरोपित डॉक्टर दिल्ली एम्स में भी अपनी सेवाएं देता है। वह एक नामी फार्मा कंपनी में सीईओ भी है।

एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि आरोपितों की पहचान डॉ. अल्तमश, कुमैल और जाजिब के रूप में हुई है। डॉ. अल्तमश देश का नामी न्यूरोलॉजिस्ट है और दिल्ली के निजामुद्दीन में रहता है। इंजेक्शन वही उपलब्ध कराता था। चंद दिनों की कालाबाजारी में ही उसने 36 लाख रुपये कमाए हैं। आरोपितों के पास जो कार मिली है, वह भी इन्हीं पैसों से खरीदी गई थी।

डॉ. अल्तमश लोगों को कोरोना संक्रमण से बचने की सलाह भी दे रहा था। बड़ी कंपनी का सीईओ और नामी न्यूरोलॉजिस्ट होने की वजह से वह आसानी से रैमडेसिविर और दूसरे महंगे इंजेक्शन तक अपनी पहुंच बना लेता था। फिर इसके गैंग के लोग मरीजों तक पहुंचते थे। इंजेक्शन केवल उसी को दिया जाता था, जो इनके लिंक के जरिए आते थे। अनजान लोगों से ये किसी तरह की बात नहीं करते थे।

4 हजार का इंजेक्शन 40 हजार में बेचा
डॉ. अल्तमश का गैंग गंभीर मरीजों तक अपनी पहुंच बनाता था। 4 हजार रुपये का रेमडेसिविर इंजेक्शन 30 से 40 हजार रुपये के बीच बेच रहे थे। इसी बीमारी में इस्तेमाल होने वाले अक्टेमरा इंजेक्शन की भी कालाबाजारी करते थे। सामान्यतौर पर लगभग 48 हजार रुपये में मिलने वाले इस इंजेक्शन को डेढ़ लाख रुपये में बेचते थे। गाजियाबाद में डिमांड मिलने के बाद इंजेक्शन जाजिब और कुमैल के पास पहुंचता था।

एसएसपी से लेकर थानेदारों तक रोज सैकड़ों लोग रेमडेसिवर इंजेक्शन के लिए कॉल करते हैं। खूब कोशिश के बाद भी ये अफसर इंजेक्शन नहीं दिला पाते थे। कई कॉल ऐसी मिली, जिसमें उन्हीं पीड़ितों ने इंजेक्शन का इंतजाम होने की बात कही। एसएसपी ने स्वाट टीम से संजय पांडेय और घंटाघर कोतवाली से संदीप सिंह को इस प्लान में शामिल किया। पता करने का टारगेट दिया गया कि आखिर ये इंजेक्शन का इंतजाम हुआ कहा से? फिर पुलिस टीम भी पीड़ित बनकर गैंग तक पहुंच गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: