newsmrlदिल्लीनुजहत अशरफी - रायपुर शहरी/ग्रामीणपेज-3बॉलीवुड
Trending

प्रिया रामानी को दिल्ली अदालत ने किया बाइज्जत बरी

bollywood update by nujhat

Order No. 0356#RPR

दिल्ली की एक अदालत ने बुधवार को पत्रकार प्रिया रमानी को आपराधिक मानहानि केस में बरी करते हुए कहा कि जिस देश में महाभारत और रामायण जैसे महाकाव्य लिखे गए हों। महिला को सम्मान करने की बात कही गई हो। उस देश में महिलाओं के साथ हिंसा शर्मनाक है। फैसले में कोर्ट ने इन महाकाव्यों का उदाहरण देते हुए कहा कि ये एक महिला की गरिमा का महत्व बताते हैं।

अपने फैसले में अदालत ने वाल्मिकी रामायण का जिक्र करते हुए कहा कि जब लक्ष्मण से सीता के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि हमने तो सिर्फ उनके चरण निहारे हैं और कुछ नहीं देखा। जटायु का जिक्र करते हुए अदालत ने कहा कि जब सीता को रावण अपहरण कर ले जा रहा था तो जटायु ने रोकने की कोशिश की। रावण ने तब उसके पर काट दिए थे। लेकिन जटायु ने तब तक अपने प्राण नहीं त्यागे, जब तक सीता हरण की सूचना श्रीराम को नहीं दे दी। महाभारत में कुरु राजसभा में द्रौपदी को घसीटकर लाया गया था, तो द्रौपदी ने इस पर सवाल उठाया था, इस बात का भी जजमेंट में जिक्र किया गया। कोर्ट ने कहा कि भारतीय संस्कार में महिलाओं के प्रति श्रद्धा आवश्यक है।


अदालत ने अपने फैसले में कहा कि इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है कि ज्यादातर सेक्सुअल प्रताड़ना बंद कमरे में दरवाजे के अंदर होता है। कई बार विक्टिम खुद नहीं समझ पाती हैं कि क्या हो रहा है और उसके साथ क्या गलत हो गया। कई बार बेहद सम्मानित व्यक्ति भी महिला के साथ प्रताड़ना करते हैं। रमानी के साथ सेक्सुअल प्रताड़ना की घटना विशाखा गाइडलाइंस से पहले हुई थी। उस वक्त ऐसे मामले के लिए मैकेनिज्म नहीं था। उन्होंने शिकायत न करने की सोची, क्योंकि सेक्सुअल प्रताड़ना से जुड़े मामले में एक सोशल स्टिगमा जुड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: