Gunja Bandheकोविड-19वर्ल्डसेहत
Trending

2 साल की बच्ची में पाया गया कोरोना का नया स्ट्रेन

newsmrl.com covid19 update by mamta sharma

Order No. 0356#RPR

[11:16 am, 30/12/2020] Newsmrl Reporter Mamta Bilaspur: 2 साल की बच्ची में पाया गया कोरोना का नया स्ट्रेन

मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ का है जहां 2 साल की बच्ची में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन पाया गया है दरअसल यह परिवार कुछ दिनों पहले ब्रिटेन से लौटा था ब्रिटेन से लौटे परिवार को हुआ था कोरोना की पुष्टि, पुष्टि के बाद जांच के लिए सैंपल दिल्ली भेजे गए थे जिसमें 2 साल की बच्ची के रिपोर्ट में कोरोना के नए स्ट्रेन की पुष्टि हुई है, हालांकि चार लोगों का सैंपल दिल्ली भेजा गया था जिसमें से 2 साल की एक बच्ची में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिला है, नया स्ट्रेन मिलने के बाद इलाके को सील कर दिया गया है.

उत्तर प्रदेश के मेरठ में 2 साल की बच्ची में कोरोना का नया स्ट्रेन मिला। बच्ची के माता-पिता भी कोरोना संक्रमित हैं हालांकि, उनमें कोरोना का नया स्ट्रेन नहीं मिला है. 2 साल की बच्ची में कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने के बाद इलाके को सील कर दिया गया है. इलाके के लोगों का अब लगातार टेस्ट किया जा रहा है।कोरोना का ये नया रूप इसलिए भी चिंता का विषय है क्योंकि ये करीब 70% ज्यादा संक्रामक है और कम उम्र वर्ग के लोगों में भी संक्रमण का अधिक खतरा है , फिर भी इस नए स्ट्रेन में राहत की बात ये है कि ये कम घातक है।

वायरस का नया रूप 70% ज्यादा तेजी से फैलता है ब्रिटेन में कोरोना वायरस के खतरनाक वैरिएंट मिलने के बाद भारत सरकार ने 21 दिसंबर को ब्रिटेन से आने वाली फ्लाइट पर रोक लगा दी थी यह रोक 22 दिसंबर रात 11:59 से 31 दिसंबर रात 11.59 तक के लिए लगाई गई थी जो लोग 21 दिसंबर से पहले फ्लाइट से भारत पहुंचे उनका एयरपोर्ट पर ही RT-PCR टेस्ट किया गया था। कोरोना का नया स्ट्रेन ऐसे समय में आया है जब भारत में वैक्सीनेशन की तैयारियां जोरों से हो रही हैं. लेकिन केस सामने के बाद सरकार सतर्क हो गई है।

अनुमान है कि कोरोना वायरस का नया रूप 70% ज्यादा तेजी से फैल सकता हैं। वायरस में लगातार बदलाव होते रहते हैं इनके गुण बदलते रहते हैं वायरस में लगातार म्यूटेशन होता रहता है, ऐसा होने पर ज्यादातर वेरिएंट खुद ही खत्म हो जाते हैं, लेकिन कभी-कभी यह वायरस पहले से ज्यादा खतरनाक और मजबूत हो जाते हैं कोरोना के नए स्ट्रेन की शुरुआत ब्रिटेन से हुई थी, जिसके बाद यूरोप के कई देशों में इसके मामले सामने आए हैं. जानकारी के अनुसार, सिंगापुर, जापान, कनाडा, लेबनान, फ्रांस, स्वीडन, इडली, ऑस्ट्रेलिया, डेनमार्क, नीदरलैंड, स्पेन, जर्मनी में कोरोना के नए स्ट्रेन के केस सामने आ चुके हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- डरने की आवश्यकता नहीं
स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बयान दिया नए स्ट्रेन से घबराने की जरूरत नहीं है. भारत में नए स्ट्रेन के आने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावा किया है कि कोरोना की वैक्सीन नए स्ट्रेन पर भी प्रभावी होगी. इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि वर्तमान वैक्सीन इन कोरोना वेरिएंट्स से बचाने में नाकाम रहेंगी. भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार प्रो के विजय राघवन ने कहा कि वैक्सीन यूके और दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने वाले वेरिएंट के खिलाफ काम करेंगी.

all image source googleimage.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Dark Mode Available in newsmrl.com में डार्क मोड उपलब्ध है
%d bloggers like this: